2017 Top Ten of Conflict for Mathematics

सम और विषम अंक
गणित में सम (even) ऐसी संख्याओं को कहा जाता है जो 2 द्वारा पूर्णतः विभाज्य (DIVIDABLE) हों, जैसे कि 0 2 4 6 8 10इत्यादि। यही कहने का एक और तरीका है कि सभी सम अंक 2 के गुणज (MULTIPLE) होते हैं। इस से विपरीत विषम (odd) अंक ऐसे अंकों
समान्तर चतुर्भुज
जिस चतुर्भुज की आमने-सामने की भुजाएँ समांतर तथा समान होती है उसे समान्तर चतुर्भुज (Parallelogram) कहते हैं
हिन्दी की गिनती
हिन्दी की गिनती, संस्कृत की गिनती से अपभ्रंश होकर पैदा हुई है। उदाहरण के लिये हिन्दी का 'साठ' संस्कृत के 'षष्टिः' से उत्पन्न है; 'अस्सी' संस्कृत के 'असीति' से। इसी प्रकार देख सकते हैं कि हिन्दी की
वैदिक गणित (पुस्तक)
वैदिक गणित, जगद्गुरू स्वामी भारती कृष्ण तीर्थ द्वारा सन १९६५ में विरचित एक पुस्तक है जिसमें अंकगणितीय गणना की वैकल्पिक एवं संक्षिप्त विधियाँ दी गयीं हैं। इसमें १६ मूल सूत्र ,तथा 13 उपसूत्र दिये
घनाभ
घनाभ (क्यूब्वायड) या आयतफलकी वह समान्तरषटफलक है जिसका प्रत्येक फलक आयताकार हो। जब तीनों बीमा समान हों तो वह आकार घन (क्यूब) कहलाता है। ईंट, आयतफलकी का सबसे अच्छा उदाहरण है
पाई
पाई (π) एक गणितीय नियतांक है जिसका संख्यात्मक मान किसी वृत्त की परिधि और उसके व्यास के अनुपात के बराबर होता है। इस अनुपात के लिये π संकेत का प्रयोग सर्वप्रथम सन् १७०६ में आया। इसका मान लगभग 3.14159 के
52 पत्तों का समूह (ताश)
52 फ़्रांसीसी ताश सबसे सामान्य पत्तियाँ की समूह है आजकल। चार सूट्स है इस प्रकार का ताश में: चिड़ी (♣), ईंट (♦), पान (♥) और हुकुम (♠)। सभी सूट में है अंक के पत्ते, 1 से 12. अन्य पत्तों है शक्ल के पत्तों: राजा, रानी
महत्तम समापवर्तक
Written by Jhabbar Singh Rathore Sobhana Bikaner।। अंकगणित में दो पूर्णांकों a तथा b का महत्तम समापवर्तक या म.स. वह महत्तम संख्या होती है जो a तथा b दोनो को विभाजित कर सके
अंक
अंक ऐसे चिह्न हैं जो संख्याओं के लिखने के काम आते हैं। दासमिक पद्धति में शून्य से लेकर नौ तक कुल दस अंक प्रयोग किये जाते हैं। इसी प्रकार षोडश आधारी में शून्य से लेकर ९ तक एवं A से लेकर F कुल १६ अंक
आयत
ऐसा चतुर्भुज जिसके चारों अन्तःकोण समकोण हों उसे आयत (Rectangle) कहते हैं। आयत एक ऐसा चतुर्भुज है जिसकी आमने सामने की भुजाएं समांतर होती है, "आयत" कहलाता है